300x250 AD TOP

Followers

Popular Posts

Featured slider

Tuesday, 14 February 2012

Tagged under:

माँ








मैं,
मृतोपजीवी था,
पर तुमने
पर्णहरिम का
संचार कर
मुझमे
जीवन लालसा
पैदा की  I
खाद पानी
क्या दिया कि
मेरी रगों में दौड़ते
पर्णहरिम ने
सूरज की गर्मी को
कैद कर लिया
और मैं ........
स्वपोषी  हो गया
ये कैसा परिवर्तन!
मैं चकित था I
                    - सिद्धांत  

0 comments:

Post a Comment